Monitor(मॉनिटर)
       मॉनिटर को विजुअल डिस्प्ले युक्ति भी कहते हैं मॉनिटर सीपीयू से प्राप्त परिणाम को सॉफ्ट कॉपी के
रूप में दिखाता है मॉनिटर पर चित्र छोटे छोटे बिंदुओं डॉट्स से मिलकर बनता है इन बिंदुओं को पिक्सेल के
नाम से जाना जाता है किसी चित्र की अस्पष्टता तीन तथ्यों पर निर्भर करती है।
1. स्क्रीन का  रेजोल्यूशन(RESOLUTION OF SCREEN)
2.  Dot pitch
3. Refresh rate
कुछ प्रमुख प्रयोग में आने वाले मॉनिटर निम्न है|

1. Cathode ray tube(CRT)
यह एक आयताकार बॉक्स की तरह दिखने वाला मॉनिटर होता है इसे डेक्सटॉप कंप्यूटर के साथ और फोटो
देखने के लिए प्रयोग करते हैं यह कारण बड़ा तथा भारी होता है।

2. LCD (Liquid Crystal Display)
एक प्रकार की अधिक प्रयोग में आने वाली आउटपुट युक्ति है यह CRT के अपेक्षा काफी हल्की किंतु महंगी
आउटपुट युक्ति है इसका प्रयोग लैपटॉप में नोटबुक में पर्सनल कंप्यूटर में डिजिटल घड़ी में किया जाता है।
LCD मे दो प्लेट होती है इन प्लेटों के बीच एक विशेष प्रकार का द्रव भरा होता है जब plate के पीछे से प्रकाश
निकलता है तो plate के अंदर द्रव Align होकर चमकतें हैं जिसे चित्र दिखाई देने लगता है|

3. LED(LIGHT EMITTED DIODE )
यह मॉनिटर आजकल घरों में टेलीविजन की तरह उपयोग किया जाता है इसके अंदर छोटे छोटे LED लाइट
एमिटिंग डायोड लगे होते हैं जब विद्युत धारा इन LEDsसे गुजरती है तो यह LEDs चमकने लगते हैं और
चित्र LED की स्क्रीन पर दिखाई देने लगता है|

4. 3D मॉनिटर
3D monitor का प्रयोग output ko 3 डायमेंशन में देखने के लिए करते हैं

5. TFT(THIN FILM TRASISTOR)

टीएफटी में एक पिक्सेल को कंट्रोल करने के लिए चार ट्रांजिस्टर लगे होते हैं ट्रांजिस्टर पैसिव मैट्रिक्स की
अपेक्षा स्क्रीन को काफी तेज चमकीला एवं ज्यादा कलरफुल बनाते हैं टीएफटी अन्य मास्टर के पिक्चर
महंगा लेकिन काफी अच्छी क्वालिटी का चित्र डिस्प्ले करने वाला आउटपुट युक्ति है|
MONITOR - Sarkarigoal.com

Post a Comment

Previous Post Next Post